Breaking News
recent

जिला स्तरीय राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस-2016 आयोजन



शहजाद खान
शाजापुर / भारत सरकार के विज्ञान एंव प्रोद्योगिकी विभाग एंव राष्ट्रीय विज्ञान एंव प्रोद्योगिकी एंव संचार परिषद नई दिल्ली द्वारा प्रतिवर्ष 10 से 17 वर्ष के बालक बालिकाओ को उनकी  वैज्ञानिक अभिरूचि को उजागर करने उसे पहचानने तथा उनकी वैज्ञानिक संकल्पनाओं को एक सशक्त मंच प्रदान करने के लिए ब्लाक स्तर से राष्ट्रीय स्तर तक राष्ट्रीय बाल विज्ञान काग्रेंस का आयोजन किया जाता है। जिसमे 10 से 17 वर्ष आयु समूह के बाल वैज्ञानिक स्थानीय समस्या पर भारत सरकार के विज्ञान एंव प्रोद्योगिकी विभाग द्वारा दिये गये मुख्य कथानक अन्तर्गत विभिन्न उप-कथानको के अनुरूप अपने लद्यु शौध पत्र तैयार कर उनका प्रस्तुतीकरण पावर प्वाइन्ट अथवा चार्ट@माॅडल द्वारा करते हैं। जिला स्तरीय राष्ट्रीय बाल विज्ञान क्राग्रेंस-2016 का आयोजन कोटिल्य एजुके’ान एकेड़मी शाजापुऱ, जिला शाजापुर किया गया।

कार्यक्रम का शुभारम्भ जिला शिक्षा अधिकारी श्री थाॅमस भूरिया,सहायक संचालक शिक्षा श्री विवेक दूबे, प्राचार्य श्री के.के. अवस्थी, संस्था डायरेक्टर श्री ब्रजेश यादव ने किया, स्वागत भाषण प्राचार्य थाॅमस जाॅन ने दिया। जिला शिक्षा अधिकारी श्री भूरिया ने बताया की गत वर्ष तक शाजापुर जिले से 14 परियोजनाए राष्ट्रीय स्तर पर सम्मलित की गयी थी इन परियोजनाओं की राष्ट्रीय स्तर पर काॅफी सराहना की गयी थी। साथ जिले से एक परियोजना को भारतीय विज्ञान सम्मेलन में सहभागिता का अवसर प्राप्त हुआ था।
राष्ट्रीय बाल विज्ञान काग्रेंस के जिला समन्वयक श्री ओ.पी.पाटीदार के अनुसार इस वर्ष अभी तक जिले में संचालित विभिन्न विद्यालयों से 420 परियोनाओं के लिए लगभग दो हजार बाल वैज्ञनिकों द्वारा अपनी अपनी परियोजनाओं का पंजीयन करवाया जा चुका है। जिसमें से 15 विद्यालयों के बाल वैज्ञानिको द्वारा तीन से चार माह तक किसी स्थानीय समस्या पर आधारित परियोजना पर कार्य कर अपनी परियोजना पूर्ण कि जिसका जिला स्तरीय कार्यक्रम में पावर प्वाईट द्वारा प्रस्तुतीकरण ;च्ंचमत च्तमेमदजंजपवद द्ध किया गया। विभिन्न विद्यालयों से पूर्ण रूप से तैयार 22 परियोजनाओं का प्रस्तुतीकरण जिला स्तर पर किया गया। इन परियोजनाओं में से पाॅच सर्वश्रेष्ठ परियोनाओं को आगामी नवम्बर माह में भोपाल में आयोजित की जाने वाली राज्य स्तरीय राष्ट्रीय बाल विज्ञान काग्रेंस में सम्मिलित किया जावेगा।
कार्यक्रम के दौरान गत वर्ष तक जिले से राष्ट्रीय स्तर पर सहभागिता करने वाले बाल वैज्ञानिकों का सम्मान किया गया।
कार्यक्रम प्रस्तुत परियोजनाओं का मूल्याकंन दल के प्रमुख प्राचार्य श्री प्रवीण मण्डलोई, एपीसी श्री रविकांत त्रिपाठी एवं वरिष्ठ अध्यापक डाॅ अवनिश श्रीवास्तव द्वारा किया गया। इस दौरान शा.महाविद्यालय शाजापुर के प्राध्यापक श्री आई एस परमार ने परियोजना तैयार करने के बारे में ध्यान में रखे जाने वाले प्रमुख बिन्दुओं के बारे में चर्चा की कार्यक्रम के अन्त मे उपस्थित अतिथियों का आभार व्यख्याता श्री नरेन्द्र डोडिया द्वारा माना गया, कार्यक्रम का संचालन शिक्षक श्री मयूर वर्मा द्वारा किया गया।

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.