Breaking News
recent

Advertisement

"नेकी की दीवार" शाजापुर में पत्रिका की सामाजिक पहल शुरू

Adjust the font size:     Reset ↕


शाजापुर ‘आपके पास ज्यादा हो तो छोड़ जाइए, नहीं हो तो ले जाइए’ इस ध्येय पर काम शुरू हो गया है। शाजापुर और आगर जिले की पहली नेकी की दीवार नई सडक़ मुख्य मार्ग स्थित जिला अस्पताल के बाहर बुधवार से शुरू हो गई।
पत्रिका और एकता ग्रुप की पहल को समाजसेवियों का भी साथ मिला। पहले ही दिन इस नेकी की दीवार पर शर्ट, पेंट, टीशर्ट से लेकर नई साडिय़ां तक पहुंची। जरूरतमंद इसमें से सामान ले भी गए। अन्य जिलों की तर्ज पर शुरू हुईये ‘नेकी की दीवार’ बेसहारों को खुशियां देगी। कार्यक्रम का औपचारिक शुभारंभ बुधवार दोपहर 1 बजे ASP श्री महेंद्र तारणेकर , SDOP श्री देवेंद्र यादव ने किया। इस दौरान एकता ग्रुप के अध्यक्ष सैय्यद वकार अली, ग्रुप के सचिव शेख शाकीर बुशरा, सरपरस्त हाजी मसीद खां, दाऊद सेठ, शराफत भाई, कवियत्रि और समाजसेवी संतोष शर्मा, शब्बीर खान, विजय सोनी, अतुल गुरु, मीनू सांकलिया सहित पत्रिका टीम व अन्य गणमान्य मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ट पत्रकार और पत्रिका शाजापुर बयूरो चीफ शिवपाल सिंह ने किया ।

*इनका कहना👇*

बहुत सराहनीय कार्य है। सभी को इस कार्यसे जुडक़र जरूरतमंदों की मदद करना चाहिए। लोगों को खुशियां और सहयोग मिलेगा, इससे बढक़र कुछ नहीं हो सकता। मानव सेवा ही ईश्वर सेवा है।
- श्री महेंद्र तारणेकर
  ASP-शाजापुर.
------------
पत्रिका ने जो दीवार बनाई है वो नेक काम के लिए हमेशा ही जानी जाएगी। इसमें सहयोग देना अपने आप में बड़ा काम है। जिससे भी जो सहयोग हो वो इसमें करे।
- श्री देवेंद्र यादव,
  SDOP-शाजापुर.
–-----–---
हमने पत्रिका के साथ मिलकर नेक काम शुरू किया है, इसमें हमें सभी का सहयोग चाहिए। सभी का साथ मिलेगा तो इसमें सफलता मिलेगी।
- सैय्यद वकार अली, अध्यक्ष,
  एकता ग्रुप-शाजापुर
--------

आंखे भी छलक गई बेटे के कपड़े देते हुए -
नेकी की दीवार के शुभारंभ अवसर पर पहुंची समाजसेवी संतोष शर्मा अपने साथ एक पोटले में बहुत सारे कपड़े बांधकर लाई थी। शर्मा ने बताया कि ये उनके दिवंगत 42 वर्षीय बेटे मनीष शर्मा के सारे कपड़े है। जिन्हें वो जरूरतमंदों को देना चाहती थी, लेकिन ऐसा कोई मौका नहीं मिल रहा था। पत्रिका की नेकी की दीवार के बारें में जैसे ही पता चला वैसे ही मुझे समझ आ गया कि बेटे की इन यादों को जरूरतमंदों को बांटने का इससे बेहतर अवसर नहीं मिल सकता। बेटे की यादों को नेकी की दीवार के लिए देते समय शर्मा की आंखे तक छलक आई।

सराफा एसोसिएशन के सदस्य पहुंचे सामान देने
दोपहर में शुरू हुई नेकी की दीवार की जानकारी जैसे-जैसे शहरवासियों को लगती चली गई वैसे-वैसे लोग इसमें सहभागी बनने के लिए पहुंचने लगे। सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेश सर्राफ सहित अन्य ने बताया कि पत्रिका के इस पुनित अभियान में उनकी ओर से जो भी सहयोग होगा वो सहयोग करेंगे। बुधवार शाम को नेकी की दीवार पर पहुंचे एसोसिएशन के अध्यक्ष ने भी जरूरतमंदों के लिए कपड़े यहां पर रखे।

ASP श्री तारणेकर ने कहा कि वो भी अपने घर से जो सामान उपयोग में नहीं आ रहा है उसे यहां पर भिजवाएंगे, ताकि जरूरतमंदों को इसका लाभ मिल सके।

Like us on Facebook

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए मालवा अभीतक के Facebook पेज को लाइक करें

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.