Breaking News
recent

बेटीयों को समाज में बराबरी का स्थान मिले — डॉ. योगराज नगीना

शुजालपुर । बेटीयां ईश्वर का वरदान है । संकुचित मानसिकता से ग्रसित लोग बेटीयों के महत्व को नही समझ पाते है, जिसके चलते समाज में कन्या भ्रुण हत्या ने अपनी जगह बनाई है । इंसान के दर्द को दुर करने जीवन देने वाले सम्मानिनीय पैशे से जुडे कुछ लालची चिकित्सक कन्या भ्रुण हत्या जैसे महापाप में जाने अनजाने में अपना योगदान दे देते है । बेटीयों के  महत्व को  लोगो को समझाना होगा एवं उन्हे समाज मे  बराबरी का स्थान प्रदान करना होगा ।
     उपरोक्त बातें शनिवार को शुजलापुर में आयोजित म.प्र. आयुष चिकित्सक कमेटी की बैठ में महासचिव डॉ. योगराज नगीना ने कही । कार्यक्रम मे सर्वप्रथम अति​थियों ने भगवान धन्वतरी की पूजा अर्चना की तत्पचात जिले भर से एकत्रित आयुष चिकित्सको ने अपने अपने विचार रखे । बैठक में आयुष चिकित्सको को एलोपैथीक की दवाईयों के उपयोग की अनुमति देने एवं शासकिय चिकित्सालयों में रिक्त पडे पदों पर नियुक्ति देने की बात चिकित्सको द्वारा प्रमुखता से रखी गई । कार्यक्रम को प्रवक्ता गोविन्द मालवीय, उपध्यक्ष डॉ. सतीश लेवे, डॉ. एन.सी. शर्मा, डॉ. अश्वीन शर्मा, डॉ. विकास गुप्ता, डॉ. सुनिल पाटीदार, डॉ. रितेश नेमा, डॉ. विजय शास्त्री, डॉ. राधेश्याम पाटीदार आदि ने भी सम्बोधित किया । समस्त उपस्थित डॉक्टरों ने अपने अपने लेटर पेड पर बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं से सम्बन्धी स्लोगन छपवाने की शपथ भी ली । इस अवसर पर शाजापुर जिले के विभिन्न स्थानो से आये आयुष चिकित्सक उपस्थित थे ।
shahzad Khan

shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.