Breaking News
recent

नंद घर आनंद भयो, जय कन्हैयालाल की...पांडाल में गूंजा जयघोष श्रीमद् भागवत कथा में हुआ श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का धार्मिक आयोजन


शाजापुर (नि.प्र.)। जब-जब धर्म की हानि होती है, जब-जब धरती पर पाप बढ़ता है, तब-तब भगवान पृथ्वी पर अवतार लेते हैं। हरण्यकश्यपु का वध करने के लिए वराह अवतार, हरिण्याक्ष का अंत करने के लिए नसिृंह अवतार, समुद्र मंथन के लिए कश्यप अवतार, दानवीर राजा बली का अंहकार मिटाने के लिए वामन अवतार और राक्षसराज रावण का अस्तित्व मिटाकर रामराज्य स्थापित करने के लिए प्रभुश्री राम का अवतार धारण करने वाले नारायण ने द्वापर युग में सृष्टी को अधर्म से मुक्त करने और धर्म की रक्षा करने के लिए महान कर्मयोगी भगवान श्रीकृष्ण का अवतार धारण किया। उक्त आशीर्वचन नर्मदा के तट संदलपुर (छोटा काशी) से आए पं.नटवरलाल शर्मा ने स्टेशन मार्ग स्थित नहर की पुलिया के समीप आयोजित सात दिवसीय भागवत कथा के चतुर्थ दिवस सोमवार को पांडाल में उपस्थित श्रद्धालुजनों के समक्ष कथा वर्णन करते हुए प्रदान किए। इस दौरान भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव भी धूमधाम सहित मनाया गया ओर....नंद घर आनंद भयो जय कन्हैयालाल की... के गगनभेदी जयघोष से कथा स्थल का पांडाल उस वक्त गुंजायमान हो गया जब व्यास गादी पर विराजित कथावाचक पं.शर्मा द्वारा कथा समारोह के दौरान श्रीकृष्ण जन्म एवं नंद महोत्सव का वर्णन उपस्थित श्रद्धालुजनों के मध्य सविस्तार किया गया। इस अवसर पर बाबा नंद और बाल कृृष्ण के पात्रों ने भी कथास्थल पर प्रदर्शन किया। इस मौके पर कथावाचक ने कहा कि बंदीगृह के तालों को तोड़कर कन्हैया ने जब अवतार लिया तो तीनों लोकों में बधाईयां बजने लगी, एक और जहां माता देवकी के गर्भ से जन्म लेकर ठाकुरजी ने अपने संकल्प की पूर्ति की वहीं वृन्दावन की गलियों में विभिन्न लीलाएं करते हुए मैया यशोदा को भी धन्य किया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु महिला एवं पुरूष उपस्थित थे। श्री शर्मा ने बताया कि आज कथा के पांचवे दिवस मंगलवार को श्रद्धालुजनों को गोवर्धन पूजा तथा अन्नकूट के अलौकिक प्रसंग की कथा का लाभ प्रदान किया जाएगा।   
भजन संध्या में झूमें श्रद्धालु
सात दिवसीय भागवत कथा के तीसरे दिवस रविवार रात 8 बजे से कथास्थल पर प्रथम श्याम महोत्सव भजन संध्या का आयोजन किया गया। जिसमें प्रसिद्ध भजन गायक कलाकारों विपिन नामदेव तथा कपिल सोनी द्वारा दी गई सुमधुर भजनों की संगीतमय प्रस्तुतियों ने उपस्थित श्याम भक्तों को झूमने पर मजबूर कर दिया। कथा परिसर में सजे बाबा खाटू श्याम के दरबार में रात करीब 12 बजे तक चले भक्ति-भजन के कार्यक्रम में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने शामिल होकर बाबा की विशेष आराधना की।
  

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.