Breaking News
recent

Advertisement

समय उपवास करने का नहीं, समय किसानों की समस्या को हल करने का है-नरेश कप्तान

Adjust the font size:     Reset ↕

किसानों को उसकी फसल का सही दाम मिले
शाजापुर। प्रदेश की भाजपा सरकार की 13 साल में किसान विरोधी नीतियों से आज प्रदेश का किसान कर्ज में डूबा है। किसान अपनी मेहनत कर खून पसीने से खेती करता है और फसल को उगाता है, लेकिन जब फसल उगाने के बाद रुक जाती है तो सरकार उस फसल का उचित दाम तक नहीं देती। उसी के लिए आज किसानों ने सीने का क्रोध सड़को पर आंदोलन के रूप में नजर आ रहा है। 
जब किसान आंदोलन करते हैं तो भाजपा सरकार यह कहती है कि यह तो असामाजिक तत्व है या फिर कांग्रेस पार्टी किसानों को उकसा रही है। जबकि किसानों की फसलें आलू-प्याज की बर्बाद होती है तो किसानों की आंखों से निकलने वाला हर आंसू यह साबित करता है कि उनकी फसल बर्बाद हुई है और उनको उस फसल का सही दाम मिलना चाहिए। जब सरकार इस तरह की बात करती है कि किसानों के साथ असामाजिक तत्व या कांग्रेस पार्टी है तो किसानों के दिल को बहुत ठेस पहुंचती है।
यह बात युथ कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता नरेश कप्तान ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कही। कप्तान ने कहा कि भाजपा सरकार सिर्फ किसानों की बात करती है और किसानों के हित में कोई काम नहीं करती। उन्होंने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार किसानों का कर्ज माफ नहीं करती है। एक ओर प्रदेश के मुखिया कहते है कि यह किसानों की सरकार है। प्रदेश को कृषि कर्मण पुरस्कार मिला है, जबकि दूसरी ओर पिपलिया मंडी मंदसौर में पुलिस ने 7 किसानों की गोली मारकर हत्या कर दी। यह कौन सी किसानों की सरकार है? आज पूरे प्रदेश भर में किसान आंदोलन में कई किसानों की मौत व आगजनी घटना हुई है। इसके बाद भी सरकार चुप बैठी है। किसानों को उनका हक मिलना चाहिए। उनकी फसल उचित दाम में बिकना चाहिए। किसानों की मांग पूरी होना चाहिए। तभी किसान चेन सुकून से अपनी फसल करने में सफल रहेंगे। मुख्यमंत्री ने जिस तरह से करोड़ों रुपए खर्च करक्व प्रदेश की राजधानी में उपवास का ढोंग रचाया है, इसकी बजाय यदि वे इस उपवास में हुए शासकीय रुपए को किसानों के लिए खर्च करते तो प्रदेश के किसानों को कुछ हद तक राहत मिल जाती है। लाशों पर राजनीति करने वाली सरकार ने प्रत्येक किसान की मौत की बोली 1 लाख से शुरु की और बाद में बढ़ाकर 1 करोड़ रुपए तक कर दी। मुख्यमंत्री को किसानों की लाशों की बोली लगाने की बजाय उनकी फसल की उचित बोली देना चाहिए थी तो शायद गर्त में जा रहे प्रदेश और किसानों को कुछ आसरा मिल पाता।
नरेश कप्तान
प्रदेश प्रवक्ता
युथ कांग्रेस-मप्र
 

Like us on Facebook

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए मालवा अभीतक के Facebook पेज को लाइक करें

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.