Breaking News
recent

किसान आंदोलन UPDATE- राहुल ग़ांधी, कमलनाथ,शरद यादव निकले मंदसौर के लिए

टीम मालवा अभीतक-
मंदसौर में किसान आंदोलन के हुई किसानों की मौत के बाद उनके परिजनों से मिलने के लिए कांग्रेस उपादयक्ष राहुल गांधी, कमलनाथ, दिग्विजय सिंह, जेडीयू अदयक्ष शरद यादव दिल्ली से निकल गये है , मंदसौर में विमान कि लैंडिंग की अनुमति नही होने से सभी नेता सड़क मार्ग से मंदसौर जा रहे रहे है

---अबतक--
किसान आंदोलन के चलते प्रदेश में स्तिथि नाजुक बनी हुई है । मंदसौर,पिपलिया मंडी ओर नारायणगढ़ में कर्फ्यू लगा दिया है , दलोदा ओर मल्हारगढ़ में धारा 144 लागू है एवं मंदसौर, नीमच ओर रतलाम की इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई है ।
--
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि में दुखी हूं , घटना की न्यायिक जांच होगी, दिवंगत भाइयो के परिवारों को 10 -10 लाख की सहायता राशि दी जाएगी, श्री चौहान ने सभी से।धैर्य और शांति बनाये रखने की अपील की है 
--
मामले में कांग्रेस उपादयक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि सरकार किसानों से युद्ध कर रही है ,किसानों द्वरा उनका हक मांगने पर उन्हें गोलियां दी जा रही है ।
-----
पिपलिया मंडी में उपद्रवियो ने करीब 30 से अधिक ट्रकों को आग के हवाले का दिया,

मामले के कलेक्टर स्वतंत्र सिंह का कहना है कि पुलिस फायरिंग से मौत नही हुई है 

----
डीआईजी अविनाश शर्मा ने कहा कि किसानों की आड़ में कुछ असामाजिक तत्व सक्रिय हो गए, किसान शांति रखे
----
मंदसौर में पुलिस फ़ायरिंग में 3 किसानों की मौत होना अत्यंत ही दुर्भागयपूर्ण एवं दुखद है। मैं स्तब्ध हूं।उनके परिवार के प्रति मेरी   
गहरी संवेदनाएं। अपने अधिकार की लड़ाई लड़ रहे अन्नदाताओं के ख़िलाफ़ सत्ता के नशे में मगरूर सरकार तानाशाही तरीक़े से उनकी आवाज को कुचलना चाहती है। मध्य प्रदेश के इतिहास में आज तक ऐसा कभी नहीं हुआ। हमारे अनंदाताओं पर गोली चलाना बेहद दुखदायी एवं दिल को दहलाने वाला है। प्रदेश के लिए ये एक काला दिन है| मध्य प्रदेश में किसानों के आंदोलन को जिस बर्बरता से कुचला जा रहा है, वो अत्यन्त शर्मनाक है। मैं इस दुःखद घटना की कड़ी निंदा करता हूँ।


पिपलिया मंडी में कांग्रेस नेता जीतू पटवारी पहुच गए है । उन्होंने कहा , किसानों की सब्र का इम्तिहान मत लो ।
वही भोपल से कांग्रेस के विपक्ष के नेता अजय सिंह भी पिपलिया मंडी के लिए निकल गए


--old news
मंदसौर में किसान आंदोलन ने हिंसक रूप ले लिया है। पिपलिया मंडी थाने के पास बही में किसानों ने 10 ट्रक और दो बाइक में आग लगी दी। इसके बाद हालत पर काबू पाने के लिए सीआरपीएफ और पुलिस ने गोलीबारी की। इसमें तीन की मौत हो गई, जबकि पांच घायल हैं।

मंदसौर के दलोदा में सोमवार रात उग्र किसानों ने रेलवे लाइन की फिश प्लेट उखाड़ दी थी। कुछ लोगों ने रेलवे गेट भी तोड़ दिया था। इसके बाद पुलिस और प्रशासन ने मंदसौर में इंटरनेट पर रोक लगवा दी थी मंगलवार सुबह फिर से किसानों ने उग्र रूप दिखाया।

 मंदसौर नीमच रोड पर बही के पास गुस्साए किसानों ने 10 से ज्यादा ट्रकों में आग लगा दी। उन्होंने पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों पर पथराव भी किया। हालात बेकाबू होने पर सीआरपीएफ के जवानों ने गोलीबारी की। 

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.