Breaking News
recent

गुजरात में पहले चरण की 89 सीटों पर वोटिंग शुरू, 11 बजे तक 20.9%वोटिंग हुई- खबर में देखे चुनाव समीकरण

Adjust the font size:     Reset ↕

एजेंसी_गांधीनगर.-
गुजरात विधानसभा की 182 में से 89 सीटों पर पहले फेज के लिए आज वोट डालना शुरू हो गए है। यह वोटिंग दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के 19 जिलों में शाम 5 बजे तक होगी। सिक्युरिटी में 1.74 लाख जवानों को तैनात किया गया है। कुल 2.41 लाख इम्प्लॉइज की चुनाव में ड्यूटी लगाई गई है। दूसरे फेज की वोटिंग 14 दिसंबर को होनी है। नतीजों का एलान 18 दिसंबर को किया जाएगा। पहले फेज में दो क्षेत्रों में वोटिंग होनी है। पहला- सौराष्ट्र-कच्छ और दूसरा दक्षिण गुजरात। इन दोनों क्षेत्रों में अभी बीजेपी के पास 63 और कांग्रेस के पास 22 सीटें हैं। कांग्रेस को दक्षिण गुजरात से ज्यादा कामयाबी उम्मीद है। यहां राहुल गांधी ने जमकर प्रचार किया है।

*गुजरात में कुल सीटें: 182*

पहले फेज में वोटिंग: 89 सीटों पर

कैंडिडेट्स: 977 (57 महिलाएं)

स्थान: 14,155

पोलिंग बूथ: 24,689

*पहले फेज में कास्ट फैक्टर क्या है?*

- 89 में से 24 सीटों पर पाटीदार V/S पाटीदार का मुकाबला 18सीटों पर ओबीसी V/S ओबीसी का मुकाबला।

- बीजेपी ने 31 पाटीदार, 21 ओबीसी, 15 सवर्ण, 14 आदिवासी, 8 दलित कैंडिडेट उतारे हैं।

- पहले फेज की 89 सीटों में से 32 पर बीजेपी दो टर्म या अधिक से जीत रही है। बीजेपी ने ऐसी सीटों पर उम्मीदवार बदल दिए हैं।

- वहीं, कांग्रेस ने 27 पाटीदार, 27 ओबीसी, 09 सवर्ण, 14 आदिवासी, 12 दलित-मुस्लिम कैंडिडेट उतारे हैं।

*इन 19 जिलों में होगी वोटिंग*

- पहले फेज में दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के 19 जिलों की 89 सीट के लिए 9 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे।

- ये 19 जिले हैं: कच्छ, सुरेंद्रनगर, मोरबी, राजकोट, जामनगर, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, अमरेली, भावनगर, बोटाड, नर्मदा, भरूच, सूरत, तापी, डांग, नवसारी, वलसाड।

*ये चुनेंगे अगली सरकार*

पहले फेज में कुल वोटर: 2 करोड़ 12 लाख 31 हजार 652

पुरुष: 1 करोड़ 11 लाख 5 हजार 933

महिलाएं: 1 करोड़ 1 लाख 25 हजार 472

पहले फेज में इन 5 नेताओं पर रहेगी नजर

*1) विजय रूपाणी, मुख्यमंत्री*

ये राजकोट पश्चिम सीट से उम्मीदवार है। उनका मुकाबला कांग्रेस उम्मीदवार इंद्रनील राजगुरु से है। राजगुरु गुजरात के सबसे अमीर कैंडिडेट हैं। उनके पास कुल 141 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी है।

*2) जीतू वाघाणी, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष*

- वे भावनगर पश्चिम सीट से कैंडिडेट हैं। उनका मुकाबला कांग्रेस के दिलीप सिंह गोहिल से है।

*3) बाबू बोखिरिया*

- ये बीजेपी के कद्दावर नेताओं में शामिल हैं। पोरबंदर सीट से चुनाव लड़ रह हैं। इनका मुकाबला कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अर्जुन मोढवाडिया से है।

*4) शक्ति सिंह गोहिल*

गुजरात कांग्रेस के प्रमुख नेताओं में शामिल हैं। मांडवी सीट से उम्मीदवार हैं। इनका मुकाबला वीरेंद्र सिंह जडेजा से है।

*5) ललित वसोया*

- कांग्रेस ने हार्दिक पटेल के समर्थकों को दो सीटों पर जगह दी है। इनमें से एक सीट धोरजी पर वसोया लड़ रहे हैं। वे पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति से जुड़े हैं। दिलचस्प बात यह है कि उनका मुकाबला बीजेपी के हरिलाल माधवजीभाई पटेल से है जो पोरबंदर से लोकसभा सदस्य हैं।

*189 में से कितनी सीटें किसके पास?*

*सीट बीजेपी कांग्रेस अन्य*
*सौराष्ट्र-कच्छ 54 35 16 3*
*दक्षिण गुजरात 35 28 6 1*
*कुल 89 63 22 4*

*89 सीटों पर क्या है कास्ट फैक्टर?*

- सौराष्ट्र-कच्छ में राज्य के 33 में से 12 जिले आते हैं। यहां पाटीदार और कोली समाज की आबादी करीब 40 फीसदी है। बाकी ओबीसी, क्षत्रिय और मछुआरा समाज के लोग हैं।

- दक्षिण गुजरात में सूरत, नवसारी, भरूच, वलसाड, नर्मदा, तापी, डांग जिले हैं। दक्षिण गुजरात में कुल 35 विधानसभा सीटें हैं। इनमें से 28 सीटों पर बीजेपी का कब्जा है। जबकि कांग्रेस के पास सिर्फ 6 सीटें हैं। एक सीट अन्य के पास है। यहां के ज्यादातर वोटर आदिवासी हैं। कई सीटों पर पटेल और कोली जाति का वर्चस्व है।

- राहुल गांधी ने इस बार दक्षिण गुजरात में पूरी ताकत लगा दी है। इसकी वजह यह कि 90 के दशक तक यह इलाका कांग्रेस का गढ़ रहा था। लेकिन पिछले डेढ़ दशक से इस इलाके में बीजेपी मजबूत हुई है। जैसे- सूरत शहर की सभी सीटें बीजेपी के पास हैं।

*पहले फेज की वोटिंग से पहले क्या हुई सबसे बड़ी कॉन्ट्रोवर्सी?*

- कांग्रेस लीडर ने पहले गुरुवार को प्रधानमंत्री को नीच किस्म का बता दिया। दरअसल, पीएम ने डॉ. भीमराव आंबेडकर को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा था। इस पर अय्यर ने कहा, "ये आदमी बहुत नीच किस्म का है। इसमें कोई सभ्यता नहीं है।"

*मोदी ने अय्यर के बयान पर क्या जवाब दिया?*

- मोदी ने बनासकांठा की रैली में कहा, "श्रीमान मणिशंकर अय्यर ने आज कहा कि मोदी नीच है। मोदी नीच जाति का है। क्या यही भारत की महान परंपरा है? ये गुजरात का अपमान है। मुझे तो मौत का सौदागर तक कहा जा चुका है। गुजरात की संतानें इस तरह की भाषा का तब जवाब दे देगी, जब चुनाव के दौरान कमल का बटन दबेगा।"

- अय्यर के इस बयान पर राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर नाराजगी जताई थी। अय्यर ने माफी भी मांगी लेकिन इसके बाद कांग्रेस ने उन्हें पार्टी की प्राइमरी मेंबरशिप से सस्पेंड कर दिया।

*पहले फेज के दौरान किन मुद्दों पर हुआ प्रचार?*

- विकास, किसान, बेरोजगारी, घोटाला, जीएसटी, नोटबंदी, राम मंदिर, आरक्षण, जातिवाद जैसे मुद्दों पर पहले प्रचार हुआ। लेकिन बाद के दिनों में यह निजी हमलों में तब्दील हो गया।

*राहुल-मोदी ने कैसे किया प्रचार?*

*1) मंदिर*

राहुल: 3 महीने में 24 मंदिर गए।

मोदी: 2 महीने में 4 मंदिर गए।

- राज्य की 80 से 100 विधानसभा सीटें ऐसी हैं, जिन पर इन मंदिरों का असर देखा जाता है।

*2) रैली*

मोदी और राहुल दोनों ने ही फर्स्ट फेज के प्रचार के लिए 15-15 से ज्यादा रैलियां की हैं।

*3) ट्रैवल*

- मोदी ने रैलियों के लिए करीब 21400 किमी का सफर तय किया।

- राहुल ने नवसृजन यात्रा और रैलियों के लिए करीब 13100 किमी का सफर तय किया।

*क्या है इस चुनाव की अहमियत?*

- गुजरात में 19 साल से BJP सत्ता में, 15 साल में पहली बार मोदी सीएम कैंडिडेट नहीं हैं।

- पिछले लोकसभा चुनाव के बाद भी केंद्र की राजनीति में एक्टिव हो गए। लेकिन इस साल राज्यसभा के लिए चुने गए।

- हार्दिक पटेल पाटीदार आंदोलन के जरिए राज्य की इस 12% आबादी पर असर डाल चुके हैं। अब हार्दिक कांग्रेस के सपोर्ट में हैं।

- राहुल गांधी भी इस चुनाव में काफी एक्टिव हैं। उनका दूसरे फेज की वोटिंग से पहले 11 दिसंबर को पार्टी का प्रेसिडेंट चुना जाना भी तय है।

खबर व्हाट्सप मेसेजों के आधार पर

Like us on Facebook

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए मालवा अभीतक के Facebook पेज को लाइक करें

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.