Breaking News
recent

Advertisement

कौटिल्य के कलाकारों ने मंच से बिखेरे क्रिसमस के रंग - संगीत पर थिरके बाल कलाकार

Adjust the font size:     Reset ↕

शाजापुर। एबी रोड स्थित कौटिल्य एज्यूकेशन एकेडमी में गुरुवार को क्रिसमस पर्व मनाया गया। कायक्रम की शुरुआत बच्चों की धमाकेदार प्रस्तुतियों के साथ हुई। कोई राजस्थानीय लुक में मंच पर नजर आया तो किसी ने कई बच्चों ने मॉडर्न लूक धारण कर अपनी कलाकारी का लोहा मनवाया। मंच पर आए हर बच्चे की कलाकारी ने सभी को मोहित कर दिया। यही वजह थी कि हर प्रस्तुति के बाद विद्यालय परिसर तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। 
इसके पूर्व अतिथियों ने मां सरस्वती के चित्र पर मार्ल्यापण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। बच्चों को प्रोत्साहित करते हुए विद्यालय संचालक ब्रजेश यादव ने कहा कि आज पूरे विश्व में ईसाई धर्म के लोगों की संख्या ज्यादा है। हमारे भारत देश में भी जीजस  के आराध्योंं की संख्या कम नहीं है। वे लोग अगर जीजस को मानते हैं तो दीपावली पर भगवान राम की भी पूजा करते हंै तो होली, दशहरा और देश में होने वाले हर त्यौहारों में बराबर भाग लेते हैं। क्योंकि हमारा देश धर्म निरपेक्ष राज्य है। आज हम स्कूल में पढ़ाई कर रहे हैं कल को कॉलेज जाएंगे और आप में से कई लोग विदेशों में भी शिक्षा ग्रहण करेंगे। लेकिन हमने स्कूल में जो शिक्षा ग्रहण की है वो है एक-साथ और मिल-जुलकर रहने की तो इसे कभी न भुलाना और एक-दूसरे की सहायता करते रहना। प्रभु यीशु ने भी संसार को इंसानियत का पाठ पढ़ाया है। हमें भी उनके बताए मार्ग को अपनाना है। कार्यक्रम को विशेष अतिथि अभिभावक राजेंद्र वर्मा, नपा की श्रीमती संध्या, विद्यालय संचालिका श्रीमती शशि यादव, प्रशासनिक समिति अधिकारी अरविंद यादव ने भी संबोधित किया। स्वागत भाषण प्राचार्य थॉमस जॉन ने किया। कार्यक्रम का संचालन वाईस प्रिंसिपल नरेंद्रसिंह डोडिया ने किया। 
बच्चों ने बांधा समा...
यूं तो क्रिसमस पर्व 25 दिसंबर को मनाया जाएगा। लेकिन पर्व का उल्लास और उत्साह अभी से नजर आने लगा है। गुरुवार को कौटिल्य एजयूकेशन एकेडमी में भी चार दिन पहले क्रिसमस पर्व का आयोजन किया गया। जिसमें छोटे-छोटे बच्चे आकर्षण का केंद्र रहे। किसी ने घूूमर पर तो किसी ने देशभक्ति गीतों पर एक से बढ़कर एक प्रस्तुति दी। वहीं कुछ बच्चों ने कविता और अपने संवाद के माध्यम से क्रिसमस पर्व का महत्व बताकर हर किसी को अपना कायल बना लिया। 
सांता ने बांटी खुशियां...
बच्चे मंच से प्रस्तुति दे रहे थे तो उनके सहपाठी उनकी प्रस्तुतियों का आनंद उठा रहे थे। तभी बीच कार्यक्रम में सांता क्लॉज ने आकर सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर लिया, जिसके आते ही बच्चे खुशी से झूम उठे। इसके बाद सांता ने बच्चों को चॉकलेट, गिफ्ट बांटे। उनके आते ही स्कूल में जिंगल बेल, जिंगल बेल की धुन भी बजने लगी जिसने कार्यक्रम में चार चांद लगा दिए। 
००००००००००००

Like us on Facebook

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए मालवा अभीतक के Facebook पेज को लाइक करें

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.