Breaking News
recent

Advertisement

उज्जैन -नशे में धुत्त रसूखदार युवकों ने कई गाड़ियों को मारी टक्कर,लोगों ने आरोपियों को पुलिस को सौंपा, फिर भी पुलिस ने दबाव में नही की नामजद कार्रवाई- फरियादी ने कहा न्याय नही मिलने पर देंगे धरना

Adjust the font size:     Reset ↕

 उज्जैन ९-१-२०१८ - उज्जैन के फ्रीगंज शहीदपार्क क्षेत्र में रविवार की रात को अजीबो गरीब मामला देखने को मिला यहाँ पर शराब के नशे में धुत्त युवकों ने रोड के किनारे खड़े कई वाहनों को टक्कर मार कर उन्हें बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया व और तो और उक्त नशेड़ियो के होंसले इतने बुलंद थे की उन्होंने वाहनों को टक्कर मारने के बाद उन लोगो को उनके साथ मारपीट कर धमकी भी दी जिनके वाहनो को उन्होंने टक्कर मारी थी । इस पर लोगों ने मौके पर ही उन्हें पकड़ कर डायल 100 के हवाले किया। पुलिस युवक व उसके साथियों को रात में ही माधवनगर थाने ले गई लेकिन मेडिकल करवाकर छोड़ दिया। 
पुलिस की नजर में जेसे कुछ हुआ ही नही- इस मामले में रोचक बात ये सामे आई की पुलिस ने उक्त आरोपियों को ऐसे ही छोड़ दिया जेसे उन्होंने कुछ किया न हो, मामले में फरियादी ने आरोप लगाया कि उक्त युवको ने हमारी गाडियो को टक्कर मारी और हमारे साथ मारपीट भी , हमने ही उन्हें पकड़कर पुलिस को सोंपा उसके बाद भी पुलिस ने दबाव में आकर उनके खिलाफ नामजद मुकदमा कायम नही किया  फरियादी के भाई मुदस्सर ने आरोप लगाया कि उक्त कार में चार युवक सवार थे। जिन्होंने भाई की कार समेत शहीदपार्क क्षेत्र में खड़ी तीन चार अन्य कारों को भी टक्कर मार क्षतिग्रस्त कर दिया व एक गन्ने के ठेले को भी टक्कर मार तोड़ दिया। नशे में धुत्त युवक इतनी तेज स्पीड में थे कि उनकी गाड़ी के एयर बैग्स खुल गए।
खान ने माधवनगर पुलिस पर आरोप लगाया कि उन्होंने कहने के बाद भी टक्कर व मारपीट करने वाले युवक व उसके साथियों के खिलाफ नामजद कायमी नहीं की। उक्त कार को शुभम राय नामक युवक चला रहा था जो गोंदाचौकी निवासी प्रदीप राय के नाम पर रजिस्टर्ड है। फरियादी ने आरोप लगाया कि टक्कर मारने वाले प्रभावशाली लोग थे इसलिए नामजद कायमी नहीं की।

वेसे इस मामले में पुलिस ने -देवासरोड आदर्शनगर कालोनी निवासी फरियादी मुजफ्फर खान की रिपोर्ट पर पुलिस ने कार क्रमांक एमपी 13 टी एमजे- 7875 के चालक के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है। 

 इधर माधवनगर थाना इंचार्ज गगन बादल ने बताया कि फरियादी के कहने पर ही रात में संबंधित युवकों का मेडिकल कराया। नोटिस वाली धारा में कायमी थी इसलिए मेडिकल करवाकर छोड़ा गया। 
ये केसा सुशासन - मामले में फरियादी का कहना हे की अगर पुलिस ने न्याय पूर्ण कार्यवाही नही की तो हम शीघ्र ही आईजी कार्यालय के सामने बड़ी संख्या में धरना देंगे, फरियादियो का कहना हे की क्या पुलिस रसूखदारों के विरुद्ध कोई कार्यवाही नही करेगी, उन्होंने कहा की एक आदमी से भूलवश भी  एक्सीडेंट हो जाता हे ही तो उसके साथ पुलिस सख्ती से पेश आती हे  लेकिन इन लोगो ने जानबूझकर ऐसा किया, और मोके पर पकड़कर हमने उन्हें पुलिस को सोंपा बावजूद इसके पुलिस ने सबके सामने इन्हें छोड़ दिया आखिर ऐसा क्यों 

Like us on Facebook

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए मालवा अभीतक के Facebook पेज को लाइक करें

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.