Breaking News
recent

Advertisement

जिस कार्य को करना है वह निष्पक्ष रुप से करो तो आपका कार्य अवश्य सिद्व होगा -परम पुज्य पंडीत विजय शंकर जी मेहता

Adjust the font size:     Reset ↕

मक्सी- परम पुज्य पंडीत विजय शंकर जी मेहता द्वारा 18 मार्च से 24 मार्च तक हनुमान कथा का वाचन किया गया जिसका आज अंतिम दीन पूर्ण हुआ । आज के विषय मे कहा कि रामजी ने लक्ष्मण से कहा कि जिस कार्य को करना है वह निष्पक्ष रुप से करो तो आपका कार्य अवश्य सिद्व होगा । सही मनुष्य की पहचान यदि हो जाये तो आधा कार्य हो जाता है । बहुत सारे लोग होते है लेकिन सभी को तीन खण्ड मे बाटा गया है ।
1. स्पष्ट विद्वान 2. स्वयं संघर्ष करते है 3. नकारात्मक विचारधारा के लोग

यदि मनुष्य मे उर्जा है तो उसका सदुपयोग करें उर्जा का दुरुपयोग करना भी अपने आप मे धोखा है। मनुष्य को पहले अपने आप पर भरोषा करना चाहिये बाद मे भगवान की शक्ति पर भरोषा करना चाहिये ।

पंडीत विजय शंकर जी ने कहा कि आप यहा पर कथा सुनने आये है यह भगवान ने आपके उपर कृपा की है । यह आपका परम सौभागय है और इसके लिये आपको भगवान को धन्यवाद देना चाहीये ।

यदि कोई भी सम्पत्ति आपको उपहार मे मिली हो तो उसका दुरुपयोग नही करे । वह सम्पत्ति आपको अच्छे कार्य मे खर्च करना चाहीये ।सुदामा ने जब कृष्ण से उनकी गरीबी के बारे मे पुछा। तो उन्होने कहा कि सुदामा गुरु माता ने हमको चने की दो पोटली दीथी लेकिन दोनो ही आपने खा ली और जब मेने आपसे पुछा की मेरी पोटली कहा है और आपका मुॅह क्या ेचल रहा है तब आपने मुझे जवाब दिया कि मे कुछ भी नही चबा रहा हूॅ एवं मेरा मुख ठण्ड से कप कपा रहा है । तुमने मेरे हिस्से का भी अधिकार जताया एवं इसी कारण से इश्वर ने तुम्हे गरीबी का एहसास दिलाया ।

अहंकार शब्द का उल्लेख करते हुए कहा कि अहंकार का प्रदर्शन करने से राष्ट्र, समाज और परिवार टूट जाता है यदि आपके पास कुछ भी नही है तो आप तीन प्रकार से मनुष्य की सेवा कर सकते हो 1. दुसरो के जीवन मे उत्साह भरना, 2. उसकी महत्वता का अहसास दिलाना एवं 3. उसका विश्वास जीतना ।

विशेष अतिथी: परम पुज्य श्री अनुराग कृष्ण जी पाठक, वृन्दावन
वैदिक सनातन अध्यात्मिक व्यास परम्परा के परम अनुयायी जो कल से दो दिवसीय हनुमान चालीसा पर चिंतन करेंगे ।

Like us on Facebook

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए मालवा अभीतक के Facebook पेज को लाइक करें

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.