Breaking News
recent

Advertisement

शाजापुर 27 अप्रेल डायरी

Adjust the font size:     Reset ↕

सड़को के निर्माण से आवागमन हुआ आसान 
- शाजापुर 27 अप्रैल 2018
जिले में विगत 10 वर्षो में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, लोक निर्माण विभाग एवं मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम द्वारा निर्मित कुल 1561.875 किलोमीटर सड़को के निर्माण से शाजापुर जिले के निवासियों का आवागमन आसान हुआ है। वर्षा ऋतु में आने जाने, अनाज, फल, सब्जी आदि मण्डी तक पहुचाने में पहले बहुत कठिनाई होती थी। किन्तु विगत 10 वर्षो में सड़को के निर्माण से अब सब कुछ आसान हो गया है। ग्रामीणजन खेतो में पैदा की गई उपज का वाजिब दाम प्राप्त करने के लिए पैदावार को मण्डी तक विक्रय के लिए बड़ी आसानी से लाते हैं वहीं गांव में यदि कोई बीमार पड़ जाता है तो उसे भी बिना तकलीफ के आसानी से चिकित्सालय ले आते हैं। सड़को के निर्माण से ग्रामीणजन प्रसन्न हैं, उन्हें सड़को के निर्माण से लाभ हुआ है।
शाजापुर जिले में विगत 10 वर्ष में मध्यप्रदेश ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण द्वारा प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत 684.30 किलोमीटर लम्बी सड़के बनाई है। जिनमें  ए-बी.रोड से टुकराना मार्ग, ए-बी.रोड से लड़ावद मार्ग, सारंगपुर अकोदिया रोड से अय्यापुर मार्ग, शुजालपुर पचोर मार्ग से उण्डई मार्ग, शाजापुर दुपाड़ा मार्ग से लसुल्ड़िया जगमाल मार्ग महत्वपूर्ण सड़के शामिल है। इन मार्गो के निर्माण से आसपास के कई ग्रामों को फायदा हुआ। इसी तरह लोक निर्माण विभाग द्वारा 654.80 किलोमीटर और मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम द्वारा 222.775 किलोमीटर लम्बी सड़के बनाई है, जिनसे आवागमन आसान हो गया। 
 जिले में आमजन की सुविधाओें को दृष्टिगत रखते हुए लोक निर्माण विभाग द्वारा शाजापुर बेरछा मार्ग से लाहोरी-देवलाबिहार, बोलाई, अकोदिया मार्ग जिसकी लम्बाई 34.55 किलोमीटर है, और इसकी लागत 4974.03 लाख रूपये है, के निर्माण का विगत दिनों प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से भूमि पूजन कराया है। इस रोड के निर्माण से शाजापुर से भोपाल जाने के लिए कम दूरी का मार्ग उपलब्ध होगा। इसी तरह कालापीपल-कुरावर मार्ग लम्बाई 25.40 किलोमीटर लागत 4052.57 लाख रूपये है, निर्माणाधीन है। निर्माण पूर्ण होने पर राजधानी भोपाल से आने वाले वाहनो को सुविधा प्राप्त होगी। इसी तरह पीपलरावां-पोलायकलां मार्ग 12.48 किलोमीटर लागत 2533.16 लाख रूपये, निर्माणाधीन है। इससे देवास जिले से आने वाले वाहनों को सुविधा मिलेगी। निर्माणाधीन बर्डियासोन रेलवे गेट से पलसावद-हनौती-झोंकर-जलालपुरा ए.बी.रोड मार्ग 14.85 किलोमीटर लम्बाई लागत 1671.07 लाख रूपये भी लगभग पूर्णता की ओर है, इसके निर्माण से उज्जैन-मक्सी के वाहनों को भोपाल जाने हेतु एक और मार्ग मिल जाएगा। 
सड़क विकास निगम द्वारा शाजापुर-दुपाड़ा-कानड़-पचलाना-पिलवास-नलखेड़ा नवनिर्मित मार्ग लम्बाई 53.99 किलोमीटर (आगर जिले की लम्बाई 32 किलोमीटर और शाजापुर जिले की लम्बाई 22 किलोमीटर), शाजापुर-बेरछा नवनिर्मित मार्ग लम्बाई 16.435 किलोमीटर तथा शुजालपुर-सारंगपुर मार्ग लम्बाई 38.46 किलोमीटर निर्मित किया गया है। इन मार्गो से शाजापुर जिलें के निकटवर्ती जिले आगर, उज्जैन, राजगढ़, देवास एवं सीहोर आने जाने वाले यातायात एवं कृषकों को फसल के परिवहन में सुगमता हो रही है।    
--------------------

समाधान एक दिवस में अब तक 18065 आवेदकों को दी गई सेवाएं 
शाजापुर 27 अप्रैल 2018/जिलें में 5 फरवरी 2018 से पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू की गई समाधान एक दिवस योजना के तहत अब तक 18065 आवेदकों को सेवाएं दी गई। उल्लेखनीय है कि समाधान एक दिवस योजना के तहत अब तक 18163 आवेदन प्राप्त हुए थे, जिनमें से 18065 आवेदनों का निराकरण हुआ है। शेष 98  आवेदनों का विभिन्न कारणों से निराकरण के लिए लम्बित है। जिले में लोकसेवा केन्द्र शाजापुर, गुलाना, अवन्तिपुर बड़ोदिया, मो. बड़ोदिया, शुजालपुर, कालापीपल एवं पोलायकंला कुल 7 लोकसेवा केन्द्रों पर शासन के निर्देश अनुसार समाधान एक दिवस योजना के तहत प्रारंभ की गई है। इन केन्द्रों पर दोपहर 1.00 बजे तक आवेदन प्राप्त कर उसी दिन उनका निराकरण करते हुए आवेदकों को सेवाएं दी जाती है। 
ई-गवर्नेन्स मैनेजर श्री बिरम सिंह सौंधिया ने बताया कि समाधान एक दिवस में सामान्य प्रशासन विभाग की स्थानीय निवासी प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, एवं नगरीय निकाय व ग्रामीण निकाय की मतदाता सूची की सत्य प्रतिलिपि का प्रदाय शामिल है। इसी तरह गृह विभाग की स्टेशन हाऊस आफिसर द्वारा फरियादी को एफआईआर की प्रति न देने पर वरीष्ठ स्तर से एफआईआर की प्रति प्रदान किया जाना, इसी तरह अजाक्स थाने से स्टेशन हाऊस आफिसर द्वारा फरियादी को एफआईआर की प्रति न देने पर वरीष्ठ स्तर से एफआईआर की प्रति प्रदान किया जाना, मर्ग इंटीमेशन की छायाप्रति, अजाक्स थाने से मर्ग इंटीमेशन की छायाप्रति, राजस्व विभाग की तहसील एवं जिला स्तरीय रिकार्ड रूम से (राजस्व मण्डल को छोड़कर) प्रचलित प्रकरणों में पारित आदेश/अंतरिम आदेश या दस्तावेजों की सत्यप्रतिलिपि पक्षकारों को प्रदाय करना, चालू खसरा, बी-1 खतोनी एवं चालू नक्शा की प्रतिलिपियों का प्रदाय, परिवहन विभाग की लर्निंग ड्रायविंग लाइसेंस की प्रतिलिपि, वाहन फिटनेस प्रमाण पत्र की प्रतिलिपि, डुप्लीकेट वाहन पंजीयन कार्ड, स्वामित्व का हस्तांतरण अनापत्ति प्रमाण पत्र, लोकस्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की प्रसूति अवकाश सहायता योजना, जननी सुरक्षा योजना, सामाजिक न्याय विभाग की इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना, विधवा पेंशन योजना एवं निःशक्त पेंशन योजना की प्रथम बार स्वीकृति, मुख्यमंत्री निःशक्त शिक्षा प्रोत्साहन योजना, निःशक्त विवाह प्रोत्साहन योजना, निःशक्त व्यक्तियों के लिए सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना, निःशक्त छात्र-छात्राओं के लिए उच्च शिक्षा में दी जाने वाली फीस निर्वाह भत्ता एवं परिवहन भत्ता योजना, छः वर्ष से अधिक आयु के बहुविकलांग एवं मानसिक रूप से अविकसित निःशक्तजन के लिए सहायता अनुदान योजना, सामाजिक सुरक्षा विधवा पेंशन योजना, सामाजिक सुरक्षा वृद्धावस्था पेंशन योजना की प्रथम बार स्वीकृति और प्रदाय, सामाजिक सुरक्षा निःशक्त पेंशन एवं परित्यक्ता पेंशन योजना की प्रथम बार स्वीकृति एवं प्रदाय और तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार विभाग के रोजगार कार्यालय में पंजीयन एवं नवीनीकरण की सेवाएं शामिल है।   
--------------------
गोकुल महोत्सव में अब तक 54 हजार से अधिक पशुओं का उपचार
शाजापुर 27 अप्रैल 2018/जिले के 585 ग्रामों में 27 मार्च से 3 मई तक चलने वाले गोकुल महोत्सव में अबतक 400 ग्रामों में शिविर लगाकर पंजीकृत 17758 पशु-पालकों के 54453 पशुओं का उपचार किया गया। 
उपसंचालक पशु चिकित्सा डॉ. एन.एस.सिकरवार ने बताया कि 27 मार्च से प्रारंभ हुए गोकुल महोत्सव में अबतक 400 ग्रामों में शिविर लगाया जा चुका है। इन ग्रामों में पंजीकृत 17758 पशु-पालकों के 19575 पशुओं का उपचार, 13552 पशुओं का टीकाकरण, 1853 पशुओं का बधियाकरण, 3995 बांझ पशुओं का उपचार, 299 पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान, 2197 पशुओं का गर्भ परीक्षण, 391 पशुओं की शल्यक्रिया, 24820 पशुओं के लिए औषधी वितरण की गई है। 
--------------------
30 अप्रैल को जलसंसद कार्यक्रम का होगा सीधा प्रसारण
शाजापुर 27 अप्रैल 2018/प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 अप्रैल को प्रातः 11.00 बजे भोपाल जिले के फंदा विकासखण्ड के ग्राम ईंटखेड़ी छाप स्थित कोलांस नदी के तट पर आयोजित जनसंसद कार्यक्रम में सम्मिलित होकर उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित करेंगे। इसका सीधा प्रसारण शाजापुर में जिला एवं विकासखण्ड मुख्यालयों पर भी किया जाएगा। 
इस संबंध में कलेक्टर श्री श्रीकांत बनोठ ने सभी जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को निर्देशित किया है कि क्षेत्र की किसी पुनर्जीवित चयनित नदी के तट के समीप जलसंसद कार्यक्रम का आयोजन कर सीधे प्रसारण की व्यवस्था कराऐं। उक्त कार्यक्रम जनसमुदाय हेतु किया जाना है, इसके लिए भी आवश्यक व्यवस्थाएं करें।   
--------------------

किसानों को भुगतान समय से हो, आवश्यकतानुसार नवीन उपार्जन केन्द्र खोले जायें
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा गेहूँ, चना, मसूर और सरसों उपार्जन की समीक्षा
शाजापुर 27 अप्रैल 2018/मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि सभी जिलों में आवश्यकतानुसार नवीन उपार्जन केन्द्र खोले जायें। किसानों को भुगतान समय से हो। उपार्जन कार्य की लगातार मानीटरिंग की जाये। उपार्जन के दौरान किसान हितैषी दृष्टिकोण रखा जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से प्रदेश में चल रहे गेहूँ, चना, मसूर और सरसों के उपार्जन की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया, वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग और मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों को समय से एसएमएस मिले तथा खरीदी केन्द्र पर उपार्जन सुनिश्चित किया जाये। उपार्जन के बाद शीघ्र परिवहन किया जाये। यह सुनिश्चित करें कि किसानों को खरीदी के तीसरे दिन भुगतान मिले। किसी कारण से एसएमएस से सूचना के बाद निर्धारित दिन पर किसान नहीं आ पाता है, तो उन्हें दोबारा एसएमएस किया जाये। खरीदी, परिवहन और किसान को भुगतान की लगातार मानीटरिंग की जाये। खरीदी केन्द्रों पर पर्याप्त संसाधन और उपकरण हों। यह सुनिश्चित करें कि बोरे के निर्धारित वजन के बराबर ही कटौती की जाये। उपार्जन केन्द्रों पर छाया और पीने के पानी की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उपार्जन केन्द्रों पर एक प्रशासनिक अधिकारी की ड्यूटी लगायें। मण्डियों में आवश्यकतानुसार मजदूरी की दरें बढ़ायें। जिन उपार्जन केन्द्रों पर नाफेड के सर्वेयर नहीं हो, वहाँ कृषि, खाद्य और सहकारिता की समिति बनाकर एफ.ए.क्यू गुणवत्ता का उपार्जन करें। ओला प्रभावित और सूखे से प्रभावित किसानों को राहत राशि मिलना शेष नहीं रहे। उपार्जित खाद्यान्न के परिवहन में देरी नहीं हो। आवश्यकतानुसार मण्डियों में विद्युत चलित ट्रेडिंग मशीनें लगायें। 
प्रभारी मंत्री भी प्रतिदिन करेंगे उपार्जन की मानीटरिंग
मुख्यमंत्री ने कहा कि कलेक्टर उपार्जन कार्य के साथ भुगतान की स्थिति की प्रतिदिन समीक्षा करें। प्रभारी मंत्री भी प्रतिदिन उपार्जन कार्य की मानीटरिंग करेंगे। खरीदी, परिवहन, भुगतान और कैश की प्रतिदिन रिपोर्ट लें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कृषि समृद्धि योजना के तहत वर्ष 2016-17 की प्रोत्साहन राशि अधिकांश किसानों के खातों में पहुँच गई है। वर्ष 2017-18 की प्रोत्साहन राशि 265 रूपये प्रति क्विंटल गेहूँ तथा चना, मसूर और सरसों में 100 रूपये प्रति क्विंटल की दर से आगामी 10 जून को किसानों के खातों में डाली जायेगी।
किसानों को एसएमएस की विकेन्द्रीकृत व्यवस्था
बताया गया कि उपार्जन के लिये किसानों को एसएमएस भेजने की विकेन्द्रीकृत व्यवस्था की गई है। खरीदी केन्द्रों पर तौल व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण किया गया है। प्रदेश में अब तक 45 लाख मीट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन किया गया है। गेहूँ, चना, मसूर, सरसों को मण्डियों में बेचने वाले किसानों को भी मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना में प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। इन किसानों का पंजीयन किया गया है। बैठक में संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


Like us on Facebook

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए मालवा अभीतक के Facebook पेज को लाइक करें

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.