Breaking News
recent

Advertisement

सटोरियों ओर जुआरियो में हड़कंप, शाजापुर में सट्टा किंग समेत साथियो का पुलिस ने निकला जुलूस, नागरिको ने की पुलिस के कार्य की सराहना

Adjust the font size:     Reset ↕

शाजापुर। रविवार को कोतवाली पुलिस ने सट्टा किंग गुड्डा राठौर समेत आधा दर्जन से अधिक सटोरिये और जुआरियों का जुलूस निकाला। आपको बता दे कि लंबे समय से शहर में सट्टा जोरों पर चलने की शिकायत पुलिस के पास पहुंच रही थी, किंतु प्रभावी कार्रवाई नहीं होने से पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे थे। इस पर वरिष्ठ अफसरों ने मामले को गंभीरता से लिया और कोतवाली टीआई को सख्त कर्रवाई के निर्देश दिए थे।
पुलिस ने कोतवाली टीआई अलोक सिंह परिहार के नेतृत्व में शनिवार देर शाम सट्टा किंग गुड्डा राठौर व एक अन्य सटोरिये को दबोचा। शनिवार को भी पुलिस ने पांच जुआरियों को पकड़ा था। रविवार को इन्हें कोर्ट में पेश करने से पहले मेडिकल के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया। जिला अस्पताल पहुंचने के कुछ दूर पहले पुलिस ने सभी को मगरिया चौराहे पर वाहन से उतारा और पैदल ही जिला अस्पताल ले गई। आरोपियों को रस्सी से बांधा गया था। अस्पताल में मेडिकल के बाद उन्हें पैदल ही ट्रैफिक पॉइंट तक ले जाया गया। यहां से पुलिस वाहन में बैठाकर एसडीएम कोर्ट में पेश
किया गया, जहां से सभी को जेल भेज दिया गया। पुलिस के अनुसार शनिवार शाम को पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर सट्टा किंग गुड्डा राठौर उर्फ असीत पिता मथुरालाल राठौर निवासी किला रोड, राजू उर्फ जाकिर पिता मोहम्मद हनीफ निवासी मगरिया को सट्टा पर्ची व अन्य सामग्री के साथ गिरफ्तार किया था। शनिवार को ही जुआ खेलते बाबूलाल पिता सिद्घनाथ निवासी लालपुरा, इरफान पिता नसीब खां निवासी मगरिया, इकरार पिता रमजान निवासी मगरिया, कैलाश पिता भंवरलाल निवासी महुपुरा, भूरा उर्फ सलीम पिता बेलीखान निवासी महुपुरा को पकड़ा था। इन सभी को रविवार शाम मेडिकल के बाद एसडीएम कोर्ट में पेश किया गया, जहां से सभी को जेल भेजा गया।

टीआई आलोक सिंह परिहार, एसआई मनोज सेंधव, एएम पठान, सीमा धाकड़, पीएसआई तोमर, जुली रघुवंशी, एएसआई चैनसिंह यादव, आरक्षक प्रदीप सिकरवार सहित पुलिस अफसर व जवान सटोरियों और जुआरियों को मगरिया चौहारे से पैदल जिला अस्पताल की ओर लेकर रवाना हुए। आधा दर्जन से अधिक आरोपितों के बाजू रस्सी से बांधे गए थे। यह नजारा देखने के लिए लोग घरों से बाहर निकल आए। वहीं पुलिस और आरोपियों की पीछे काफी भीड़ भी लग गई।

एसपी ने दिए थे निर्देश
एसपी शैलेंद्र सिंह चौहान लंबे समय से सट्टे के अवैध कारोबार पर लगाम लगाना चाह रहे थे। प्रभावी कार्रवाई के लिए उन्होंने कोतवाली टीआई से लेकर अन्य अफसर व जवानों को भी कई बार निर्देश दिए। किंतु हर बार कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति ही की गई। सट्टा संचालन को लेकर एसपी ने कोतवाली टीआई राजेंद्र वर्मा को लाइन अटैच कर राकेश कुमार नैन को कोतवाली का जिम्मा दिया। उनके कार्यकाल में भी जमकर सट्टा चला और टीआई नैन पर लेनदेन के आरोप भी लगे। लचर और सुस्त कार्यप्रणाली के चलते टीआई नैन को भी लाइन अटैच कर दिया। नैन के स्थान पर निरीक्षक आलोक सिंह परिहार को कोतवाली का जिम्मा दिया गया। परिहार ने कोतवाली का जिम्मा संभालने के अगले ही दिन आईपीएल का सट्टा और आरोपित को पकड़ अरपने मंसूबे जाहिर कर दिए।

वाहन खराब हो गया था
सट्टे और जुए के मामले में पकड़े गए आरोपितों का जुलूस निकाले जाने को लेकर कोतवाली टीआई आलोक सिंह परिहार का कहना है कि आरोपितों को जुलूस नही निकाला गया। उन्हें थाने से पुलिस वाहन में बैठाकर ही जिला अस्पताल के लिए रवाना हुए थे, किंतु अस्पताल से कुछ दूर पहले वाहन में खराबी आ गई। इससे आरोपितों समेत वह और स्टाफ भी पैदल चलकर जिला अस्पताल गए। मेडिकल के बाद पैदल ही ट्रैफिक पॉइंट पहुंचे। तब तक वाहन दुरस्त होकर आ गया। इस पर आरोपियों को वाहन में बैठाकर कोर्ट के लिए रवाना किया।
क्षेत्र में बड़े पैमाने पर सट्टा चलने की शिकायतें मिली थी। इस पर कोतवाली टीआई को कार्रवाई के निर्देश दिए थे। सट्टे-जुए पर प्रभावी कार्रवाई करने पर कोतवाली टीआई समेत उनकी पूरी टीम को उचित इनाम दिया जाएगा। पूरे जिले में कहीं भी किसी भी हाल में अवैध धंधे नही चलने दिए जाएंगे।
- शैलेंद्र सिंह चौहान, एसपी शाजापुर
,-------------------

कोतवाली थाना क्षेत्र में अवैध गतिविधियां नही चलने दी जाएगी, अपराधों लार अंकुश लगाएंगे,- आलोक परिहार टीआई कोतवाली शाजापुर

Like us on Facebook

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए मालवा अभीतक के Facebook पेज को लाइक करें

Shahzad Khan

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.