Layout Style

Full Width Boxed

Background Patterns

Color Scheme

Top Ad unit 728 × 90

Trending

random

जिले में गलघोंटू बीमारी ने दी दस्तक, एक बालिका की मोत, उठे टीकाकरण अभियान पे सवाल


मालवा अभी-तक 
शाजापुर। जिले की टीकाकरण बच्चो को लगाये जाने वाले टिके के कार्य में किस प्रकार से घोर  लापरवाही की जा रही हे उसका एक उदाहरण शाजापुर जिले के पोलांयकलां ब्लॉक के ग्राम टिटवास में एक बालिका की गलघोंटू बीमारी से मौत होने के बाद सामने आया हे । वेसे बच्ची की मौत हमीदिया हॉस्पिटल भोपाल में हुई है। वहां से स्वास्थ्य विभाग को इस मामले की सूचना दी गई। सूचना मिलने पर डॉक्टरों की टीम गांव पहुंची और बालिका के परिजन सहित ग्रामीणों को स्वास्थ्य परिक्षण किया। कहा जा रहा है कि गांव में किसी अन्य में इस बीमारी के लक्षण नहीं मिले हैं।  लेकिन  स्वास्थ्य विभाग फिलहाल इसे संदिग्ध मान कर चल रहा है। लेकिन  बालिका की मौत और उसमें इस बीमारी के लक्षण मिलने से स्वास्थ्य विभाग में अफरा तफरी का माहोल हे ।  मामला सामने आते ही  स्वास्थ्य विभाग  की टीम में 9 नबंवर को विभाग की टीम गांव पहुंची यहां गाँव में  विस्तृत सर्वे कर बालक-बालिकाओं के टीकाकरण आदि की जानकारी ली गई। इसके अलावा मृतक किरण (12) के पिता कैलाशप्रसाद मीणा से भी चर्चा की गई। जिला स्वास्थ्य विभाग को आईडीएसपी भोपाल से बालिका की मौत की सूचना मिली। बताया गया कि बच्ची की मौत डिप्थीरिया बीमारी से होने की आंशका है। विभाग ने इसे संदिग्ध मानकर जांच करने के निर्देश दिए। इस पर विभाग के जिला एपीडोमिलॉजिस्ट डॉ. जेड अली, पीएचसी सेक्टर उंडई सुपरवाइजर एचएस परिहार, एएनएम संध्या राणा, एमपीडब्लू मदनगोपाल परवाल, सुपरवाइजर मोहन शर्मा सहित मलेरिया विभाग शाजापुर के अफसरों की टीम गांव पहुंची और सर्वे किया। यहां कार्यरत एएनएम को अलर्ट रहकर हर छोटी-बड़ी बीमारी के मरीज पर नजर रखने के निर्देश दिए। किसी भी तरह का मरीज मिलने पर वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देने की बात कही।

मक्सी में भी 21 हजार की आबादी पर केवल एक ही एएनएम् द्वारा टीकाकरण का कार्य किया जाता हे 
एव   टीकाकरण के मामले में जिले के मोहन बड़ोदिया ब्लॉक में बुरे हाल है। यहां दो माह से अधिक समय से टीकाकरण कार्य प्रभावित हो रहा है। यहां के 8 स्वास्थ्य केंद्र एएनएम विहिन हैं। इन केंद्रों पर करीब 40 हजार ग्रामीणों के स्वास्थ्य की देखभाल और टीकाकरण का जिम्मा है। किंतु दो माह से अधिक समय से एएनएम नहीं होने से यह कार्य प्रभावित हो रहे हैं।  


ग्राम टिटवास की बालिका की मौत हमीदिया अस्पताल भोपाल में हुई है। इसे डिप्थीरिया का संदिग्ध मरीज मानकर जांच की जा रही है। टीम ने सर्वे किया है। अन्य कोई संदिग्द मरीज सामने नहीं आया।
- डॉ. अनुसूया गवली, सीएमएचओ शाजापुर 
जिले में गलघोंटू बीमारी ने दी दस्तक, एक बालिका की मोत, उठे टीकाकरण अभियान पे सवाल Reviewed by Anonymous on 11/12/2016 Rating: 5

Copyright © Malwa Abhi Tak
Devloped By Sai Web Solution

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.