Layout Style

Full Width Boxed

Background Patterns

Color Scheme

Top Ad unit 728 × 90

Trending

random

मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल, मगर लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया-- वकार अली , शाजापुर में 15 अप्रैल को हिन्दू-मुस्लिम समाज के 51 जोड़े बनेंगे परिणय सूत्र में

एकता की छांव में कहीं भरेंगे मांग में सिंदूर तो कहीं होगा निकाह कबूल

-15 अप्रैल को हिन्दू-मुस्लिम 51 जोड़े बनेंगे परिणय सूत्र में
शाजापुर। प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी  एकता ग्रुप द्वारा साम्प्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल पेश की जाएगी। एकता की छांव में कहीं मांग में सिंदूर भरा जाएगा तो कहीं निकाह कबूल होगा। एक ही मंडप में हिन्दू और मुस्लिम समाज के 51 नवयुगल जीवन साथी बनेंगे। इस आयोजन में दोनों ही समाज के लोगों व जनप्रतिनिधि, प्रशासनिक अधिकारी शिरकत कर वर-वधुओं को सुखी जीवन का आर्शीवाद देंगे।
शहर के एकता ग्रुप द्वारा शनिवार 15 अप्रैल को अमना गार्डन हाट मैदान में आठवां सर्वधर्म विवाह सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। सम्मेलन में मुस्लिम समाज के 31 जोड़ो का निकाह शहर काजी मोहसिन उल्ला के नेतृत्व में पढ़ाया जाएगा तो पंडित अनोखी शर्मा द्वारा 20 जोड़ो के फेरे करवाए जाऐंगे। अध्यक्ष सैय्यद वकार अली ने बताया कि 'मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल, मगर लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया' बहुत ही छोटे स्तर से सम्मेलन की शुरूआत की गई थी, जो लोगों के आपसी मोहब्बत व सहयोग से आज आठवें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य गरीब तबके लोगों का आर्थिक भार कम करना है, क्योंकि वर्तमान समय में महंगाई चरम सीमा पर पहुंच गई है। लोगों के सामने भरण -पोषण का संकट मंडरा रहा है। ऐसे में गरीब तबके के लोगों द्वारा अपनी बेटी का ब्याह करना किसी चुनौती से कम नहीं है। इसी बात को मद्देनजर रखते हुए ग्रुप द्वारा कन्याओं का विवाह नि:शुल्क किया जाता है। ग्रुप द्वारा नवयुगलों को उपहार स्वरूप गृहस्थी का सामान भी भेंट किया जाएगा। पदाधिकारी दाऊद सेठ, वरिष्ठ नेता अय्यूब मेव, हाजी मसीद, शेख शाकिर बुशरा, डॉ. अशफाक मंसूरी, मोहसिन मिर्जा,भय्यु  अंकल, जाकीर कुरैशी, शराफत शीशगर, बब्लू श्रृंगारिका, वसीम गोल्डन, हैदर अली, भय्यु  मास्टर, नदीम, असलम बोहरा, इरफान पटेल,भय्या काजी, इरशाद मंत्री, जफर बाबा आदि ने सम्मेलन को सफल बनाने की अपील की है।

मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल, मगर लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया-- वकार अली , शाजापुर में 15 अप्रैल को हिन्दू-मुस्लिम समाज के 51 जोड़े बनेंगे परिणय सूत्र में Reviewed by Anonymous on 4/14/2017 Rating: 5

Copyright © Malwa Abhi Tak
Devloped By Sai Web Solution

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.